vijay_mallaya_kundli_muktidham

क्या होगी माल्या की भारत वापसी?

विजय माल्‍या पर 7 मार्च, 2022 तक रहेगा शनि का प्रकोप, अभी आने वाला है और भी बुरा समय

चर्चित उद्योगपति विजय माल्या की ज्ञात जन्म तिथि 18 दिसम्बर, 1955 और जन्म समय सुबह के लगभग 11.30 बजे कोलकाता है।  उनका पैतृक निवास कर्नाटक का बंतवाल है। यदि उनकी गूगल पर वर्णित तिथि और समय सत्य है तो उनकी कुंडली इस प्रकार है।

विजय माल्या की राशि मकर और लग्न कुम्भ है।  इनके करियर का मालिक मंगल भाग्य स्थान में शुक्र की राशि तुला में विराजमान है, जो मंगल की सम राशि है। मंगल इनके पराक्रम का भी स्वामी होकर बारहवें, तीसरे, चौथे घर पर नज़र डाल रहा है। यह मंगल दर्प,क्रोध और ईर्ष्या के साथ क़ानूनी कष्ट का कारक भी बनता है। करियर भाव में शनिदेव मंगल की राशि वृश्चिक में कुंडली मार कर बैठे है।  जो  शनि की शत्रु राशि है। यह स्थिति विवादों का जनक बनाने के साथ राजनीतिक समझ देकर इन्हें तिकड़मी मस्तिष्क का स्वामी भी बना रही है। शनि व्यय व लग्न का स्वामी होकर द्वादश, चतुर्थ और सप्तम भाव पर दृष्टिपात कर रहा है। केतु की पूर्ण दृष्टि शनि पर है, जिससे उनके चातुर्य और महत्वकांक्षा में भी वृद्धि हो रही है। भाग्य और सुख भाव का मालिक शुक्र लाभ भाव में सूर्य के साथ बैठकर पांचवें घर को देख रहा है। शत्रु वृहस्पति की पूर्ण दृष्टि शुक्र पर है। यह शुक्र ग्लैमर, नृत्य, गायन और चमक दमक का कारण बनता है पर साथ में सूर्य और बुध की उपस्थिति कई बार कुछ व्यक्तिगत सम्बन्धों को विचित्र सा बना देती हैं।

इस समय विजय माल्या 7 मार्च, 2022 तक शनि की महादशा के अधीन हैं, जो एक नकारात्मक काल है।  वक़्त की पदचाप से फ़िलहाल उनके लिए राहत के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं। कुल मिलाकर आने वाले दिनों में शराब के इस व्यापारी का नशा उतरता हुआ प्रतीत हो रहा है।

लेख – पंडित विशाल दयानन्द शास्त्री




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *