आपके कपड़े भी बताते हैं आपका व्यक्तित्व

आपके कपड़े भी बताते हैं आपका व्यक्तित्व

प्रिय पाठकों, कपड़े ना सिर्फ शरीर ढकने के काम आते है बल्कि हमारे व्यक्तित्व, व्यवसाय, के साथ-साथ हमारे चरित्र, व्यवहार, आत्मविश्वास को भी दर्शाने के काम आते हैं। किसी भी व्यक्ति को उसके कपड़े पहनने के तरीके से, कपड़ों के रंग से, कपड़ों की गुणवत्ता से अर्थात पहनावे से सरलता से पहचाना जा सकता हैं की उसका सामाजिक स्तर उसकी सोच व व्यवसाय किस प्रकार का है।

ढीले कपड़े ऐसे वस्त्र पहनना जातक के शांत, कोमल, सीधे व सरल स्वभाव को बताता हैं ऐसे लोग धैर्यवान दूसरों को राह बताने वाले स्वयं को किसी भी परिस्थिति में ढालने वाले होते हैं प्राय; इनके लग्न या चन्द्र पर गुरु गृह का प्रभाव होता हैं इसलिए ये चिंतन, मनन, ध्यान व अध्यात्म में ज़्यादा रुचि रखते हैं

तंग कपड़े- ऐसे जातक चुस्त, फुर्तीले कुछ कर गुजरने की सोच वाले, अस्थिर स्वभाव वाले, निडर व साहसी प्रवर्ती के होते हैं। इनका मन मस्तिष्क हर वक़्त किसी ना किसी उधेड़ बुन में लगा रहता हैं। इनके लग्न या चन्द्र पर शनि अथवा राहु ग्रह का प्रभाव रहता हैं। दिखावा व बहसबाजी करना इन्हें पसंद होता हैं। लंबे समय तक कोई काम करना इन्हें पसंद नहीं होता। स्वयं पर खूब लगाव रखते हैं तारीफ के भूखे परंतु खर्च के मामले मे कंजूस होते हैं अपना काम निकलवाने में तथा धन कमाने में ये लोग माहिर होते हैं कभी-कभी हीन भावना के कारण छोटा रास्ता (शॉर्ट कट) भी अपना लेते हैं

ब्रांडेड कपड़े – ऐसे कपड़े पहनने वाले जातक महत्वकांक्षी, मूडी व बिंदास होते हैं सदैव ऊपर उठने की कोशिश करते रहते हैं इनमें आत्मविश्वास की कमी होती हैं जिसे यह छिपाते रहते हैं दूसरों के प्रति होड, जलन व प्रतिद्वंदिता की भावना इनमें पनपती रहती हैं जिस कारण यह अपने को आर्थिक रूप से सम्पन्न दर्शाते हैं छोटी छोटी बातें व मोलभाव करना इन्हे पसंद नहीं होता अपने से कमजोर से यह बहस बाजी करते हैं परंतु साथ वाले या बड़े से यह ज़्यादा नहीं बोलते या बिलकुल चुप रहते हैं। इनके लग्न अथवा चन्द्र पर सूर्य ग्रह का प्रभाव रहता हैं जिस कारण यह बड़े आत्मसम्मान से जीना पसंद करते हैं।

हाथ से बने कपड़े – ऐसे वस्त्र पहनने वाले लोग हंसमुख, संवेदनशील, भावुक, शांत व प्रतिभावान होते हैं अपने सभी कार्य स्वयं करना पसंद करते हैं इनकी बातों में दर्शन, धर्म, दया व अनुभव साफ झलकता हैं ये रचनात्मक व कला से संबन्धित कार्य करते हैं पारखी नज़र व दूरदर्शी होते हुये दूसरों के दूख दर्द को समझते हैं समय व नियम के पक्के होते हैं प्राय: इनके लग्न या चन्द्र का संबंध गुरु या शनि से होता हैं जिसके कारण इनकी मेहनत, त्याग व प्रेम को लोग समझ नहीं पाते और इनको अपना उचित हक़ भी नहीं मिल पाता हैं परंतु यह किसी से शिकायत ना करते हुये भी किसी पर आश्रित रहना पसंद नहीं करते हैं।

पंडित विशाल दयानन्द शस्त्री

(ज्योतिष सलाहकार) राष्ट्रीय महासचिव

भगवान परशुराम राष्ट्रीय पंडित परिषद्




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *