ajwain

अजवायन एक महत्वपूर्ण औषधि

अजवायन एक ऐसी चीज है जो कि हमेशा सबके रसोईघर में रहती है। अकेली अजवायन ही एक ऐसी औषधि है जो कि सौ प्रकार के अन्न को पचाने वाली होती है। यह अनेक प्रकार के गुणों से भरपूर होती है। जैसे कि यह पाचक रूचि कारक,तीक्ष्ण, कढवी, अग्नि प्रदीप्त करने वाली, पित्तकारक तथा शूल, वात, कफ, उदर आनाह, प्लीहा, तथा क्रमि इनका नाश करने वाली है। अत्त गर्म प्रकृति वालों के लिए हानिकारक होती है। इसकी खेती सारे देश में होती है। अजवायन अनेक प्रकार की होती है।उनमें से एक है खुरासानी अजवायन। उपयोग- अजवायन का उपयोग औषिध के रूप में, मुख्तय उदर एवं पाचन से समबन्धित विकारों तथा वात व्याधियों को दूर करने में बहुत गुणकारी होती है। इसमें लाल मिर्च की तेजी, चिरचिराने की अधिकता, राई की कटुता तथा हींग और लहसुन की वातनाशक विशेष गुणवत्ता होती है। इस लिए यह गुणों का भंङार है । यह उदर शूल, गैस, वायुशोला, पेट फूलना, वात प्रकोप आदि को दूर करता है। सबसे अच्छी बात यह है कि अजवायन आसानी से घर में मिल जाती है।
इसके प्रयोग
अजवायन का बारीक चूर्ण 5ग्राम और जरा सा सेंधा नमक जल के साथ फाँक लें। इससे अरुचि दूर होती है। अजवायन, काली मिर्च और काला नमक बराबर लेकर चूर्ण बना लें। इसे 3से 5 ग्राम तक की मात्रा में गर्म जल से लेने से मन्दाग्नि नष्ट होती है।
ajyan
अजवायन और काले नमक को अदरक के रस में मिलाकर सेवन करने से उदर सूल और अफारा तुरन्त नष्ट होता है। 40 ग्राम अजवायन ,काली मिर्च और सेंधा नमक 20-20 ग्राम मिलाकर सबका चूर्ण करके रख लें। गर्म जल के साथ 5 ग्राम चूर्ण लेने से पेट का दर्द दूर होता है।
केवल 5 ग्राम अजवायन चूर्ण मठे के साथ लेने से पेट के कीङे नष्ट हो जाते हैं। हरङ, अजवायन और सौठ का चूर्ण गाय के दूध से बने मठे के साथ सेवन करने से आमवात के तपद्रव नष्ट होते हैं। अजवायन का चूर्ण व रत्तीभर कपूर मिलाकर पीस लें, और शहद में मिलाकर चाटने से उल्टी बन्द हो जाती है। अजवायन, सौठ, पीपलामूठ, कालीमिर्च, जीरा, धनिया, काला नमक मिलाकर रख लें तथा धाय के फूल, बेल का गूदा, अनारदाना, अजमोद सब मिलाकर चूर्ण बना लें । इस चूर्ण को 5 से 10 ग्राम की मात्रा में पानी के साथ सुबह शाम सेवन करने से अतिसार, संग्रहणी, मन्दाग्नि, अरुचि, वायु गोला,पीनस, खाँसी और उदर शूल में लाभ होता है। गुङ में मिलाकर खाने और अजवायन का चूर्ण गेरु में मिलाकर शरीर पर मलने से पित्ती में तुरन्त लाभ होता है।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *